Saturday, August 8, 2009

आकांक्षा यादव




जन्म - 30 जुलाई 1982, सैदपुर, गाजीपुर (उ0 प्र0)

शिक्षा- एम0 ए0 (संस्कृत)

विधा- कविता, लेख व लघु कथा

प्रकाशन- देश की विभिन्न प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं मसलन- साहित्य अमृत, कादम्बिनी, युगतेवर, अहा जिन्दगी, इण्डिया न्यूज, रायसिना, दैनिक जागरण, राष्ट्रीय सहारा, अमर उजाला, आज, गोलकोण्डा दर्पण, युद्धरत आम आदमी, अरावली उद्घोष, मूक वक्ता, सबके दावेदार, प्रगतिशील आकल्प, शोध दिशा, कुरूक्षेत्र संदेश, साहित्य क्रांति, साहित्य परिक्रमा, साहित्य जनमंच, सामान्यजन संदेश, राष्ट्रधर्म, सेवा चेतना, समकालीन अभिव्यक्ति, सरस्वती सुमन, शब्द

लोक गंगा, रचना कर्म, नवोदित स्वर, आकंठ, प्रयास, गृहलक्ष्मी, गृहशोभा, मेरी संगिनी, वुमेन आन टाप, बाल साहित्य समीक्षा, वात्सल्य जगत, पंखुड़ी,, कथाचक्र, नारायणीयम्, मयूराक्षी, चांस, मैसूर हिन्दी प्रचार परिषद पत्रिका, हिन्दी प्रचार वाणी, गुर्जर राष्ट्रवीणा, इत्यादि में रचनाओं का प्रकाशन। एक दर्ज़न से अधिक प्रतिष्ठित काव्य संकलनों में कविताओं का प्रकाशन। विभिन्न वेब पत्रिकाओं- सृजनगाथा, अनुभूति, साहित्यकुंज, साहित्यशिल्पी, रचनाकार, हिन्दी नेस्ट, कलायन इत्यादि पर रचनाओं का नियमित प्रकाशन।

सम्पादन- ’’क्रान्ति यज्ञ: 1857-1947 की गाथा’’ पुस्तक में सम्पादन सहयोग।

सम्मान- साहित्य गौरव, काव्य मर्मज्ञ, साहित्य श्री, साहित्य मनीषी, शब्द माधुरी, भारत गौरव, साहित्य सेवा सम्मान, देवभूमि साहित्य रत्न इत्यादि सम्मानों से अलंकृत। राष्ट्रीय राजभाषा पीठ इलाहाबाद द्वारा ’’भारती ज्योति’’ एवं भारतीय दलित साहित्य अकादमी द्वारा ‘‘वीरांगना सावित्रीबाई फुले फेलोशिप सम्मान‘‘.

दिल्ली से प्रकाशित नारी सरोकारों को समर्पित पत्रिका ‘‘वुमेन ऑन टॉप‘‘द्वारा जून 2008 अंक में देश की तेरह प्रतिष्ठित नारियों में स्थान।


रुचियाँ- रचनात्मक अध्ययन व लेखन। नारी विमर्श, बाल विमर्श व सामाजिक समस्याओं सम्बन्धी विषय में विशेष
रूचि।

सम्प्रति/सम्पर्क- प्रवक्ता, राजकीय बालिका इण्टर कालेज, नरवल, कानपुर (उ0 प्र0)- 209401

kk_akanksha@yahoo.com http://shabdshikhar.blogspot.com

Monday, June 15, 2009

कृष्ण कुमार यादव


भारत सरकार की सिविल सेवा में अधिकारी होने के साथ-साथ हिंदी साहित्य में भी जबरदस्त दखलंदाजी रखने वाले बहुआयामी व्यक्तित्व के धनी कृष्ण कुमार यादव का जन्म १० अगस्त १९७७ को तहबरपुर आज़मगढ़ (उ. प्र.) में हुआ. जवाहर नवोदय विद्यालय जीयनपुर-आज़मगढ़ एवं तत्पश्चात इलाहाबाद विश्वविद्यालय से १९९९ में आप राजनीति-शास्त्र में परास्नातक उपाधि प्राप्त हैं.

समकालीन हिंदी साहित्य में नया ज्ञानोदय, कादम्बिनी, सरिता, नवनीत, आजकल, वर्तमान साहित्य, उत्तर प्रदेश, अकार, लोकायत, गोलकोण्डा दर्पण, उन्नयन, दैनिक जागरण, अमर उजाला, राष्ट्रीय सहारा, आज, द सण्डे इण्डियन, इण्डिया न्यूज, अक्षर पर्व, युग तेवर इत्यादि सहित 200 से ज्यादा पत्र-पत्रिकाओं व सृजनगाथा, अनुभूति, अभिव्यक्ति, साहित्यकुंज, साहित्यशिल्पी, रचनाकार, लिटरेचर इंडिया, हिंदीनेस्ट, कलायन इत्यादि वेब-पत्रिकाओं में विभिन्न विधाओं में रचनाओं का प्रकाशन.

अब तक एक काव्य-संकलन "अभिलाषा" सहित दो निबंध-संकलन "अभिव्यक्तियों के बहाने" तथा "अनुभूतियाँ और विमर्श" एवं एक संपादित कृति "क्रांति-यज्ञ" का प्रकाशन. बाल कविताओं एवं कहानियों के संकलन प्रकाशन हेतु प्रेस में. व्यक्तित्व-कृतित्व पर "बाल साहित्य समीक्षा" व "गुफ्तगू" पत्रिकाओं द्वारा विशेषांक जारी. शोधार्थियों हेतु आपके व्यक्तित्व-कृतित्व पर एक पुस्तक "बढ़ते चरण शिखर की ओर : कृष्ण कुमार यादव" शीघ्र प्रकाश्य.

आकाशवाणी पर कविताओं के प्रसारण के साथ दो दर्जन से अधिक प्रतिष्ठित काव्य-संकलनों में कवितायेँ प्रकाशित. विभिन्न प्रतिष्ठित सामाजिक-साहित्यिक संस्थाओं द्वारा समय-समय पर सम्मानित. अभिरुचियों में रचनात्मक लेखन-अध्ययन-चिंतन के साथ-साथ फिलाटेली, पर्यटन व नेट-सर्फिंग भी शामिल.

बकौल साहित्य मर्मज्ञ एवं पद्मभूषण गोपाल दास 'नीरज'- " कृष्ण कुमार यादव यद्यपि एक उच्चपदस्थ सरकारी अधिकारी हैं, किन्तु फिर भी उनके भीतर जो एक सहज कवि है वह उन्हें एक श्रेष्ठ रचनाकार के रूप में प्रस्तुत करने के लिए निरंतर बेचैन रहता है. उनमें बुद्धि और हृदय का एक अपूर्व संतुलन है. वो व्यक्तिनिष्ठ नहीं समाजनिष्ठ साहित्यकार हैं जो वर्तमान परिवेश की विद्रूपताओं, विसंगतियों, षड्यंत्रों और पाखंडों का बड़ी मार्मिकता के साथ उदघाटन करते हैं।"

सम्प्रति/सम्पर्क: कृष्ण कुमार यादव, भारतीय डाक सेवा, वरिष्ठ डाक अधीक्षक, कानपुर मण्डल, कानपुर-208001

ई-मेल: skkyadav.y@rediffmail.com ब्लॉग: www.kkyadav.blogspot.com


Sunday, April 26, 2009

प्रसन्न वदन चतुर्वेदी



परिचयनाम - प्रसन्न वदन चतुर्वेदी [हाई स्कूल के प्रमाण पत्र में एक शिक्षकमहोदय की कृपा से वदन की जगह बदन हो गया (वदन का अर्थ है मुख और बदन मानेशरीर- पूरा शरीर ही प्रसन्न हो गया) ,ब्लॉग पर सही सही शब्द ही लिख रहाहूँ,क्यो ग़लत लिखा जाए। ]


जन्म दिन - 22-११-७०


जन्म स्थान -गाजीपुर
शिक्षा - बी० एस-सी0 ,एल०एल०बी०,बी० म्यूज० [गोल्ड मेडलिस्ट ],एम०म्यूज०,तबला वादन में द्विवर्षीय डिप्लोमा,कम्प्यूटर में डिप्लोमा।


अभिरुचि - ग़ज़ल लेखन,पढ़ना, गायन,तबला वादन ,खेल इत्यादि।


सम्प्रति - वाराणसी कमिश्नरी में वकालत।


रचनाकार के रूप में - प्रारम्भ से ही साहित्यिक रूचि,संगीत के साथ नेग़ज़ल से जोड़ा। कवि सम्मलेन और कवि गोष्ठियों में भाग लेना पसंद है। अपनी गज़लों को स्वयं गाना बहुत पसंद है।संगीत से जुड़े होने के कारण रचनाएँगाये जाने योग्य होती हैं। कई रचनाओं को गायक कलाकारों द्वारा गाया भीगयाहै।कुछ रचनाएँ अखबारों और नेट पत्रिकाओं जैसे भडास आदि में प्रकाशित॥


पसंदीदा कवि और लेखक - सबकी अपनी अलग विशेषताएं होती हैं।किसी एक का नामक्यो लूँ।फ़िर भी --------------शिवानी और प्रेमचंद की कहानियाँ,कुंवरबेचैन,नीरज,देवकीनंदन खत्री,चतुरसेन शास्त्री,काका हाथरसी,हरिशंकरपरसाई,बशीर बद्र,वसीम बरेलवी,निदा फाज़ली,राहत इन्दौरी शैलेन्द्र, साहिरलुधियानवी।


पसंदीदा गायक/गायिका - मुकेश,रफी,लता,चंदन दास, मोहम्मद हुसैन-अहमदहुसैन,जगजीत सिंह,बेगम अख्तर।

Wednesday, April 8, 2009

गार्गी गुप्ता

जन्म - ७ अगस्त
जन्मस्थान : जिला एटा (उत्तर प्रदेश) भारत

शिक्षा : स्नातक
रुचियाँ : नृत्य , लेखन, अभिनय, भाषण

पुरुस्कार :

भाषण - सीलिंग समस्या , नारी और उसका अस्तित्व के लिए प्रथम पुरस्कार महा विद्यालय स्तर पर
नृत्य - मुक्त सांस्कृतिक लिए प्रथम पुरस्कार महा विद्यालय स्तर पर
कविता - मेरे भारत , माता पिता , तू लड़की है के लिए पुरस्कार महा विद्यालय स्तर पर
अभिनय - हड़ताल के लिए पुरस्कार महा विद्यालय स्तर पर
निबंध लेखन - के लिए पुरस्कार महा विद्यालय स्तर

पसंदीदा कवि : निराला , अज्ञे , महादेवी, हरिबंश राय बच्चन , दिनकर , बिहारी जी , सूरदास

पसंदीदा लेखक : हरिशंकर परसाई , प्रेमचंद , मोहन राकेश,

कविता , उपन्यास और कहानिया पढने का बहुत शौक है । अभी मई २००९ तक स्नातकोत्तर की छात्र हूँ।

ई मेल - gargiji2008@gmail.com

Tuesday, March 31, 2009

पंकज सुबीर

कहानीकार के रूप में पंकज सुबीर की कहानियाँ बहुचर्चित हंस, वागर्थ, नया ज्ञानोदय, कादम्बिनी, लफ्ज, आधारशिला जैसी पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी हैं। दैनिक भास्कर , नव भारत, नई दुनिया आदि समाचार पत्रों में 100 से भी अधिक कहानियाँ, व्यंग्य, ग़ज़ल और कविताएं प्रकाशित हो चुकी हैं मप्र उर्दू अकादमी के मुशायरों में ग़ज़ल पाठ तथा कहानी पाठ कई बार किया है। पेशे से पत्रकार और हार्डवेयर इंजीनियर है। इलेक्ट्रोनिक मीडिया के लिये फ्रीलांसिंग करते हैं।
ग़ज़ल के व्याकरण पर कार्य कर रहे हैं और आम बोल चाल की भाषा में ग़ज़ल का व्याकरण लाना चाहते हैं। गज़ल के पिंगल शास्त्र पर कार्यरत तथा उसको हिंदी में किताब के रूप में लाने पर कार्य कर रहे हैं । कवि के रूप में कई अखिल भारतीय कवि सम्मलेन के मंचों पर ओज के कवि के रूप में काव्य पाठ कर चुके हैं तथा मंच संचालन भी। अपने ब्लॉग सुबीर संवाद सेवा पर वर्तमान में पिछले छ: सात माह से ग़ज़ल सिखाने का काम कर रहे हैं जिससे कई सारे सीखने वाले लाभान्वित हुए हैं ।
स्वं का कम्पूटर ग्राफिक्स प्रशिक्षण केंद्र चलाते हैं । एक प्रकाशन शिवना प्रकाशन के प्रकाशक जो कि पुस्तकों के प्रकाशन का कार्य करता है जिसके तहत आज तक तीन काव्‍य संग्रह प्रकाशित हो चुके हैं तथा काव्य संग्रह पर चल रहा है । कहानियाँ, व्यंग्य लेख एवं कविताएँ कादम्बिनी, हँस, वागर्थ, नया ज्ञानोदय, समर लोक, संवेद वराणसी, जज्बात, आधारशिला, समर शेष है, लफ जैसी प्रतिष्ठित राष्ट्रीय पत्रिकाओं में प्रकाशित। भारतीय भाषा परिषद ने लगातार दो वर्षों तक (2005 एवं 2006) युवा कथाकारों के विशेषांक में शामिल किया। तथा देश के प्रतिष्ठित भारतीय ज्ञानपीठ ने वर्ष 2007 की युवा लेखकों के विशेषांक में स्थान दिया ।
''हँस'' में प्रकाशित कहानी ''और कहानी मरती है .....'' के लिये प्रेमचंद सम्मान से सम्मानित । वर्ष 2003 में सुकवि पंडित जनार्दन शर्मा पुरुस्कार प्राप्त हुआ । इटारसी की साहित्यिक संस्था सलिला द्वारा सम्मानित । जल रोको आयोजन के तहत पत्रिका संकल्प के संपादन पर मध्यप्रदेश सरकार द्वारा विशेष पुरुस्कार दिया गया । प्रतिष्ठित समाचार पत्रों दैनिक भास्कर, नई दुनिया, नव भारत आदि में समय समय पर सौ से भी अधिक कहानियाँ, व्यंग्य लेख एवं कविताएँ तथा सामयिक लेख प्रकाशित। वर्तमान में ''सुबीर संवाद सेवा'' के नाम से एक इंटरनेट आधारित समाचार एजेंसी के चीफ एडीटर हैं जिसके समाचार देश के सभी प्रमुख समाचार चैनलों में लिये जाते हैं । ''शिवना प्रकाशन'' के माध्यम से पुस्तकों के प्रकाशन का कार्य । प्रकाशन से अभी तक तीन पुस्तकों ''झील का पानी'', ''बंजारे गीत'' तथा ''गुलमोहर के तले'' का प्रकाशन। ओज के कवि के रूप में कई अखिल भारतीय कवि सम्मेलनों से काव्य पाठ तथा मंचों का संचालन किया है । तीन कहानियों ''घेराव'' का तेलगू , ''तुम लोग'' का उर्दू में तथा ''ऑंसरिंग मशीन'' का पंजाबी में अनुवाद ।

Tuesday, March 24, 2009

जय नारायण त्रिपाठी

जन्म - १३ जनवरी
जन्मस्थान : गंगापुर (भिल्वारा ) राजस्थान

शिक्षा : स्नातकोत्तर
रुचियाँ : गायन , वादन , फोटोग्राफी , एक्टिंग

पुरुस्कार : कविता "श्रद्धांजलि" के लिए 2005 का साहित्यांचल पत्रिका नवलेखन पुरुस्कार
विद्यालय और महा विद्यालय स्तर पर निबंध लेखन में कई पुरुस्कार
पसंदीदा कवि : निराला , मुक्तिबोध , श्यामनारायण पाण्डेय , दिनकर , दुष्यंत कुमार
पसंदीदा लेखक : हरिशंकर परसाई , चंद्रधर शर्मा , मोहन राकेश
पसंदीदा शायर : साहिर लुधियानवी , दाग देहेलवी
उपन्यास और कहानिया पढने का बहुत शौक है । अभी मई २००९ तक स्नातकोत्तर का छात्र हूँ।

ई मेल - jaiunique@gmail.com

डा0 कुमारेन्द्र सिंह सेंगर

पिता का नाम - श्री महेन्द्र सिंह सेंगर
जन्मतिथि - 19-03-1974
जन्म स्थान - उरई (जालौन) उ0प्र0

शिक्षा - पी-एच0 डी0 (हिन्दी साहित्य)
(डा0 वृन्दावनलाल वर्मा के उपन्यासों में अभिव्यक्त सौन्दर्य का अनुशीलन)
- एम0 ए0 (अर्थशास्त्र, हिन्दी साहित्य, राजनीतिशास्त्र)
- बी0 एस-सी0 (गणित)

- पत्रकारिता एवं जनसंचार का स्नातकोत्तर डिप्लोमा

अध्यापन अनुभव
- अंशकालिक प्रवक्ता के रूप में दयानन्द वैदिक स्नातकोत्तर महाविद्यालय, उरई में अर्थशास्त्र विषय - 1 वर्ष (1995-96)
- अंशकालिक प्रवक्ता के रूप में दयानन्द वैदिक स्नातकोत्तर महाविद्यालय, उरई में हिन्दी साहित्य विषय - 6 वर्ष (1999-2000 से 2004-05)

साहित्यिक-यात्रा
- सन् 1983 में कविता लेखन के साथ प्रारम्भ (कविता प्रकाशित)
- लेख, शोध-आलेख
, कहानी, लघुकथा, कविता, ग़ज़ल, नाटक आदि का लेखन एवं नियमित रूप से देश की प्रतिष्ठित पत्र/पत्रिकाओं में प्रकाशन
- वर्तमान तक कुल 10 पुस्तकों का प्रकाशन
- (एक कविता संग्रह, एक कहानी संग्रह, एक षोध सम्बन्धी, तीन पाठ्यक्रम सम्बन्ध्, एक कन्या भूण हत्या निवारण सम्बन्धी, दो पर्यावरण सम्बन्धी, एक जनपद जालौन सम्बन्धी)

सम्प्रति
- सम्पादक-स्पंदन (साहित्यिक पत्रिका)
- प्रवक्ता-गांधी महाविद्यालय, उरई (जालौन) उ0प्र0 (2005-06 से वर्तमान तक)
- मुख्य कार्यकारी-दीपशिखा (समाजसेवी संगठन)

साहित्यिक गतिविधियों के अतिरिक्त सांस्कृतिक कार्यक्रमों में सक्रिय भागीदारी, राष्ट्रीय, प्रादेशिक एवं स्थानीय स्तर की विविध समाजसेवी, साहित्यिक संगठनों, संस्थाओं में पदाधाकारी एवं सक्रिय सहयोग-
- भारतीय रेडक्रास समिति की जिला कार्यकारिणी के सदस्य (वर्तमान में)
- सी0एम0ओ0 की अध्यक्षता वाली पीपीएनडीटी की सलाहकार समिति के सदस्य (वर्ष 2004
से वर्ष 2007 तक)
- नेहरू युवा केन्द्र की राष्ट्रीय पुनर्निर्माण वाहिनी की जनपद जालौन की जिला कार्यकारिणी में पदाध्कारी रहे।
- गैर सरकारी संगठन ‘दीपशिखा’ का संचालन एवं अध्यक्ष पद
- शोध संस्था ‘समाज अध्ययन केन्द्र’ के निदेशक
- पी-एच0 डी0 होल्डर्स एसोसिएशन के संयोजक
- सूचना का अधिकार अधिनियम 2005 के क्रियान्वयन हेतु राष्ट्रीय अभियान
- अखिल भारतीय नवोदित साहित्यकार परिशद् के जिला उपाध्यक्ष (वर्ष 2002 से वर्तमान तक)
- कैरियर एवं काउंसलिंग संस्था
‘कौटिल्य एकेडमी’ के सलाहकार सदस्य

पुरस्कार एवं सम्मान
- उत्तर प्रदेश हिन्दी साहित्य सम्मेलन द्वारा वर्ष 2004 में हिन्दी की बहुआयामी सेवा हेतु सम्मान प्राप्त
- साहित्यिक मंच, भोपाल की ओर से वर्ष 2006 में युवा आलोचक का सम्मान
- सेण्टर फार स्टडी आफ डेवलपिंग सोसायटीस (सीएसडीएस) नई दिल्ली की ओर से वर्ष 2006 में बेस्ट इन्वेस्टीगेटर (प्रथम बार प्रारम्भ) का पुरस्कार प्राप्त
- अखिल भारतीय पुस्तक प्रचार समिति, इन्दौर द्वारा वर्ष 2007 में साहित्यिक सम्मान प्राप्त
- नेहरू युवा केन्द्र,
जालौन स्थान उरई द्वारा वर्ष 2007 में सर्वश्रेष्ठ युवा का सम्मान प्रदान
- पुष्पगंधा प्रकाशन कवर्धा (छत्तीसगढ़) द्वारा वर्ष 2008 में सम्पादक श्री की सम्मानोपाधि प्रदान



सम्पर्क
- 110 रामनगर, सत्कार के पास, उरई (जालौन) उ0प्र0 पिन-285001
दूरभाष - 09793973686, 09415187965, (05162)250011, 256242
e-mail : dr.kumarendra@gmail.com
, dr.kumarendra@rediffmail.com
spandan.kss@gmail.com, spandan_kss@rediffmail.com
web-page : http://kumarendra.blogspot.com/
http://spandanhindi.blogspot.com/